Connect with us

Movies Review

Chhapaak Full Movie Download [ Review In Hindi ]

Published

on

Chhpaak Full Movie Download

Chhapak full Movie Download Review : Tamilrockers leaks Chhapaak movie online. Chhapaak full movie pagalworld.com | FilmYwap |sd movies point | pagalworld | tamilrockers | Filmywap .

किसी भी सीरियस की सुपर फिल्म बनाने. का सबसे बड़ा चैलेंज होता है. कि आपको इशू के ऊपर भी बात करनी है और लोगों को एंटरटेन भी कराना है. ऐसी ही एसिड अटैक पर बनी हुई सबसे बड़ी फिल्म.

छपाक “Chhapak full Movie Download” इस चैलेंज को कैसे निभा पाती है. आइए हम इसके बारे में बात करते हैं.

छपाक एक मालती अग्रवाल की कहानी है. जिसमें उनका किरदार दीपिका पादुकोण ने निभाया है.

मालती पर उसके पड़ोस में रहने वाला लड़का बशीर खान तेजाब फेंक देता है. मालती बशीर को भाई कहती है. दोनों परिवारों का एक दूसरे के यहां जाना आना भी है.

लेकिन बशीर उर्फ बब्बू को जब यह पता चलता है. कि मालती का कोई बॉयफ्रेंड है. तो वह खुद पर काबू नहीं रख पाता. और बाद में अपनी भाभी की मदद से उस पर तेजाब फेंक देता है.

हमें यह कहने में कोई हर्ज नहीं है. कि दीपिका पर तेजाब फेके जाना जाने वाला जो सीन है.

वो हिंदी सिनेमा के सबसे ताकतवर सिनो में से एक है. तेजाब फेंके जाने वाले सीन पर, जब बैकग्राउंड में गुलजार साहब का लिखा हुआ गाना छपाक चलता है.

तो आप का कलेजा बाहर आ जाता है. उस गाने के बोल कुछ ऐसे हैं.

कि कोई चेहरा मिटा के , और आँख से हटाके , चंद छीटे उड़ा के जो गया , छपाक से पहचान लेंगे हम.

ऐसेही देश विदेश की खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे Glassy News

Chhppak Movie Review
Chhppak Movie Review

यह सीन और उसके गाने के बोल आपकी आत्मा को रौंद डालते हैं. और आप यह सोचने पर मजबूर हो जाते हैं.

कि कोई इंसान इतना कैसे गिर सकता है.

Chhapaak Movie Review

आप सोचते हैं कि यह किस तरीके का प्यार है. कि कोई लड़का उसी लड़की के चेहरे पर तेजाब डाल देता है.

जिससे वह प्यार करने का दावा करता है.हकीकत में हम जिनसे प्यार करते हैं.

उनके चेहरे पर एक शिकस्त तक नहीं देख सकते. और यहां प्यार ना करना यह सुनने पर लड़की के चेहरे पर तेजाब डाल देते हैं.

वह उसका ऐसा हाल कर देते हैं, कि वह लड़की अपना चेहरा देखकर आईने के सामने चिल्ला उठती है.

यह हाल सिर्फ इसलिए किया जाता है. कि उसने एक सरफिरे को ना बोल दिया!.

एक पल के लिए लड़की की जगह अपने आप को रख कर देखिए. उस ख्याल से ही आपकी आत्मा छल्ली हो जाती है.

मगर शायद इसी का नाम लाइफ है. यहां हर दर्जे के बुरे लोग भी है.

और ऐसे लोग भी हैं जो, अपनी हदें पार करके दूसरों की मदद भी करते हैं. फिल्म में अगर एक बशीर है. तो एक सिराज मैम भी है. जिनके यहां दीपिका के पिता नौकरी करते हैं.

Chhpaak Movie review

वह अपनी तरफ से लाखों रुपए खर्चा करके दीपिका की कई बार प्लास्टिक सर्जरी करवाते हैं.

फिल्म में एक है जो राजेश है जो एसिड फेंके जाने के बाद अपनी प्रेमिका को छोड़ देता है.

तो फिल्म में एक आलोक दिवेदी भी है. इनकी जिंदगी का मकसद एसिड अटैक के टिप्स के लिए काम करना है.

फिल्म में एक औरत ऐसी भी है. जो दीपिका के ऊपर तेजाब फेंकने में मदद करती है.

तो वहीं एक महिला वकील भी है. जिनकी जिंदगी का एक ही मकसद है कि दीपिका को इंसाफ दिलवाना.

और एसिड अटैक को गंभीर अपराध बनाना.इस महिला वकील का रोल Madhurjeet Sarghi ने निभाया है.

तो यह फिल्म की मोटा मोटी कहानी है और यह उनके कुछ किरदार है

Chhapaak Movie Review

फिल्म की तारीफ की बात करूं तो, उसमें सबसे पहले आता है फिल्म का सब्जेक्ट.

क्योंकि जब एसिड अटैक विक्टिम की कहानी दिखाने की बात कोई सोचता है. तो आप अच्छे से जानते हैं कि, आप उसमें कुछ ऐसे चेहरे भी दिखाएंगे जिसे देखकर किसी की भी रूह कांप जाएगी.

एक लेवल पर फिल्म बहुत भारी हो जाएगी.

बावजूद इन सबके, अगर कोई ऐसी फिल्म बनाता है. उसकी तारीफ होनी चाहिए है.

दूसरी बात है कि फिल्म एक बहुत बड़ी त्रासदी की बात करती है.

उसमे पीड़िता एक इंसाफ की लड़ाई भी लड़ती है.

मगर बावजूद इसके दीपिका कहीं लाउड नहीं होती है. वह खुद पर तरस भी नहीं खाती है.

बल्कि एक सिन ऐसा भी है जहा पर विक्रांत के ऐतराज करने पर वो ऐसा कहती है.

तेजाब मुझपर गिरा है तुमपर नहीं मुझे पार्टी करनी है. फिल्म में एक सीन है.

Movie Chhpaak

जिसमें सिंपल तरीके से एक बड़ा संदेश दिया गया है. जहां दीपिका के वकील घर में अपने एक कलीग के साथ बात कर रही है.

और बात करते-करते वह बेटी की चोटी भी बना रही है. बेटी शिकायत करती है.

कि मम्मी आप मेरी चोटी ठीक से नहीं बना रहे हो. तभी उस वकील का पति वहां ट्रे में चाय लेकर आता है.

और कहता है कि टी फॉर लेडी और बेटी को कहता है कि आओ तुम्हारी छोटी मैं बनाता हूं.

यह सीन बड़ी खूबसूरती से समाज में आ रहे बदलाव को बताता है.

जहां किसी का कोई भी काम बटा हुआ नहीं है. अगर एक औरत अपने फ्रेंड को अटेंड कर रही है.

तो उसका पति उसके लिए किचन में जाकर चाय भी बना सकता है. वह अपने बेटी की चोटी भी बना सकता है.

यानी इस तरीके के सीन अपनी छोटी-छोटी बातों से एक बड़ा संदेश देते हैं.

वह भी बिना ज्यादा शोर मचाए और बड़ी सादगी से.

Weak point Chhapaak Movie

अब बात करते हैं फिल्म के विक प्वाइंट्स की. फिल्में ट्रैक्स बहुत सारे हैं हर ट्रैक की अपनी कहानी है.

जिसमें आप किसी भी एक ट्रक के बहुत अंदर तक नहीं घुस पाते.

उसके इमोशन से नहीं जुड़ते और जब जुड़ने लगते हो.

तो फिल्म दूसरे ट्रैक पर चली जाती. और जो ट्रांजिशन है वह भी इतना स्मूथ नहीं है जितना हो सकता था.

दीपिका दीपिका पर तेजाब फेंकने की कहानी भी एक साथ ना आकर टुकड़े-टुकड़े में आती है.

मेरे साहब के किरदार को भी गंभीर दिखाया गया है. मगर इतना दिखाया गया है कि आपको भी लगता है.

कि यह आदमी हमेशा इतना चिढ़ा हुआ क्यों रहता है.

फिल्म का स्क्रीनप्ले भी इन सब प्लॉट्स को ऑर्गेनिक तरीके से नहीं जोड़ पाता.

जिसके चलते 1 लेवल के बाद फिल्म भटकी हुई लगती है.

अपने सब्जेक्ट की वजह से बहुत जगह यह फिल्म एक डॉक्यूमेंट्री होने का अहसास देती है.

वह फिल्म कम और सोशल अवेयरनेस कैंपेन ज्यादा लगने लगती है.

Chhpaak Movie

फिल्म में कुछ हल्के-फुल्के सीन डाल के उसको लाइट किया जा सकता था. ताकि दर्शकों को थोड़ा ब्रीदिंग एक्सपीरियंस मिले .

ऐसे सींस भी है पर कम है. इसी वजह से 1 पॉइंट पर जाकर बहुत हैवी हो जाती है.

और आप इसके खत्म होने का इंतजार करने लगते हैं. इसलिए नहीं कि आप बोर हो जाते हैं.

बल्कि दिल कि आपका मन बहुत भारी हो जाता है.

मेरे हिसाब से यह ऐसी फिल्म है. जो बहुत कुछ दिखाने के चक्कर में उलझ गई है.

फिर आपके दिल को भारी तो करती है. मगर छूती नही.

हमारा यह चपाक मूवी का रिव्यू आपको कैसा लगा. कमेंट करके जरूर बताएं.

और ऐसे ही रिव्यू जानने के लिए हम से जुड़े रहे धन्यवाद.

Chhpaak Movie Trailer

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Trending

close